कलाकार

आज यूँ ही बैठे बैठे अचानक एक विचार मन मैं आया तो सोचा की उस को आप से साझा करू…. भाव और अभिव्यक्ति … एक ही सिक्के के दो पहलू … अब यह अभिव्यक्ति किसी भी प्रकार से व्यक्त की जा सकती है … शब्दों के माध्यम से ,चित्रों के माध्यम से,भाव भंगिमाओ के माध्यम