कलाकार

आज यूँ ही बैठे बैठे अचानक एक विचार मन मैं आया तो सोचा की उस को आप से साझा करू…. भाव और अभिव्यक्ति … एक ही सिक्के के दो पहलू … अब यह अभिव्यक्ति किसी भी प्रकार से व्यक्त की जा सकती है … शब्दों के माध्यम से ,चित्रों के माध्यम से,भाव भंगिमाओ के माध्यम

एक प्रश्न

एक प्रश्न जो मुझमें करवटें बदलता है , दिलों में ना जाने कितनी ख्वाहिशों का दिया जलता है, जाने कौन सा अरमाँ मोम की तरह पिघलता है , कौन जाने क्या है किसी के मन में , ज़िन्दगी के थपेड़ों से कौन गिरता कौन सम्भालता है।  हँसते हुए चेहरे के पीछे , कितना है ग़म

Breakfast in the Streets

The stunts performed in this article have been done by experts… Please do not imitate them by ordering the same at home… Home delivery at your own risk…. The importance of breakfast stems from the fact that it is the meal which sustains us throughout the day… It should be nutritionous and powerful enough to